Things Indian Parents Say

Posted: March 13, 2013 in Random Bluff

With the last one being on relatives, how can I leave the parents behind. The notorious, caring, lovable Indian parents 🙂

 

  • आने दे तेरे पापा को आज
  • नहीं!! बस तुम्हे कह दिया ना जाना पड़ेगा
  • चलो अब शादी से आ गए ना, अब ये कपडे उतार कर रखो, अगली बार काम आएंगे
  • कपडे अलमारी में हेंगर पर रखो 
  • कल पेपर है, अब तो ये फेसबुक बंद कर दे 
  • यही आखिरी साल है मेहनत का, आगे तो बस आराम ही आराम है 
  • घुस जा टीवी के अन्दर मैन ऑफ़ द मैच तो तुझे ही मिलना वाला है  
  • बड़ी हो गयी है अब, खाना बनाना सीख ले 
  • अभी सफाई की थी फिर पुरे घर में गीले पैर घूम गया
  • आंटी को थैंक यू बोलो 
  • अभी तो सब सही लग रहा है तुम्हे, हमारी उम्र में आओगे ना, तब पता चलेगा 
  • रात के 2 बज गए हैं, थक गया होगा, अब सो जा 
  • बड़ों की इज्जत करना कब सीखोगे 
  • अच्छा मेरे कहने से एक बार चला जा 
  • आवाज़ नीचे!!
  • क्लास में फर्स्ट कौन आया 
  • पता नहीं कौन सी चक्की का आटा खाते हैं उनके बच्चे, हमेशा ही फर्स्ट आते हैं 
  • कभी भगवान का नाम भी ले लिया करो, हर वक़्त फिल्में, गाने 
  • सब्जी खाओ, इसमें ताकत है 
  • बचत करो, वक़्त का कोई पता नहीं 
  • बेटा भैया को ट्विंकल ट्विंकल सुनाओ 
  • हमने तो पहली ही कहा था, पर हमारी सुनता कौन है 
  • कितनी बार बताना पड़ेगा तौलिया धुप में सुखाया करो 
  • फिर पायजामे से हाथ पोंछ लिए, बाहर जाके धो नहीं सकता 
  • पता नहीं कब अकल आयेगी इस लड़के को 
  • मैंने ये प्लेट लगा के रख दी है, आंटी आएँगी तो 10 मिनट बाद ले आना (Usually happens on Holi)
  • हाय कैसा छोटा सा मुह निकल आया है 2 दिन में ही  (After fever)
  • सारे दिन धुप में खलता रहता है, देख कैसा काला पड़ गया है 

     

  And some gems from the personal collection:
  • अच्छे घरों के बच्चे रात के तीन-तीन बजे तक नहीं जागते 
  • ये बाल कटवा ले, बाजे वाला लग रहा है 
  • क्यूँ इतना परेशान हो रहा है, कौन सा तेरे चाचा का लड़का खेल रहा है मैच में 
  • आजकल की लड़कियों का कोई भरोसा नहीं, बेटा संभल कर रहना
  • ज्यादा बातें जान गया है हैदराबाद में रह के 
  • मेरा लाडला बच्चा, सच सच एक बात बताएगा, तू नहाता तो रोज़ है ना 
  • घर से तो रोज़ टिफ़िन बांध कॉलेज जाता है, अटेंडेंस कैसे शोर्ट हो गयी तेरी  

 

P.S. I love my Parents*

* No Conditions applied 🙂

Advertisements
Comments
  1. Anurag Atri says:

    Hilarious!

    यही आखिरी साल है मेहनत का, आगे तो बस आराम ही आराम है
    Biggest lie I have been told!

  2. pseudomonaz says:

    Yeh aakhiri saal hai mehnat ka wala sentence har saal repeat kiya jata hai.
    Hilarious post. 🙂

  3. Ankur Mithal says:

    Looks like you lived through them and survived. Very real. Good collection.

    • Akshay Kumar says:

      Wow!! It’s an honor to see your comment on my humble blog.
      Recently read your book “What Happens in Office, Stays in Office”, loved it. Sometimes I simply wonder how to write like that 🙂

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s